Hindi Poem by DHR : 111352541

इंसान हूं, इंसानियत से ही कर तू मेरी तुलना,
नहीं चाहता मेरी की जाय किसी धर्म या मजब से तुलना।
स्वतंत्र हूं, स्वतं

read more

View More   Hindi Poem | Hindi Stories