Hindi Poem by Yayawargi (Divangi Joshi)

ज़िंदगी में सफल या निष्फल...?

जब मान जाऊ हार तो तू हँसा देती है
तो फ़िर खुशियों में कैसे रुला देती है
जितना तुज

read more

View More   Hindi Poem | Hindi Stories