Hindi Blog by Yayawargi (Divangi Joshi)

बस्ते बदले रस्ते बदले खुद बदले, बदले जिने के ढंग
सिर्फ़ ना बदले कुछ अरमानो को क्योंकि
आंखों का पानी,
सपने नहीं

read more
Naranbhai Thummar 1 year ago

आंखों का पानी अरमानो के सपने संजोये रखता है।

View More   Hindi Blog | Hindi Stories